आ से ज्ञा तक बारहखड़ी अपने बच्चों को आसानी से सिखाएं

क्या आप आ से ज्ञा तक हिंदी वर्णमाला सीखना या सिखाना चाहते हैं तो आपके लिए यह एक बहुत बेहतरीन आर्टिकल हो सकता है.

इस लेख में बारहखड़ी उपयोग करने का आपको एक नया तरीका मिलेगा। जिसके बाद आप बड़े ही आसानी से खुद भी k se gya tak सीख पाएंगे और अपने छोटे बच्चों को भी सिखा पाएंगे।

आ से ज्ञा तक हिंदी वर्णमाला का चित्र

यही नहीं आप इस आर्टिकल के द्वारा अ से ज्ञ तक वर्णमाला को भी आसानी से सीख सकते हैं. थोड़ा सा धैर्य बनाकर नीचे तक चेक कीजिए, आपका समय मैं बिल्कुल बर्बाद नहीं करूंगा. 

पहले हिंदी वर्णमाला के आ से ज्ञा तक जान लीजिए

हिंदी भाषा के वर्णमाला में कुल वर्णों की संख्या 52 है जिसमें से 13 स्वर हैं और बाकी 39 अलग-अलग प्रकार के व्यंजन हैं।

स्वर

अ (a) आ (aa) इ  (i) ई (ee) उ (u) ऊ (oo) ए (e) ऐ (ai) ओ (o) औ (ou) अं (an) अः (aha) ऋ (ri). 

व्यंजन

क  (k) ख (kha) ग (ga) घ (gha) ड (nya) 

च (cha) छ (chha) ज (ja) झ (jha) ञ (na) 

ट (ta) ठ (tha) ड (da) ढ (dha) ण (na) 

त (ta) थ (tha) द (da) ध (dha) न (na) 

प (pa) फ (fha) ब (ba) भ (bha) म (ma) 

य (ya) र (ra) ल (la) व (va) श (sha) 

ष (sha) स (sa) ह (ha) 

क्ष (ksha) त्र (tra) ज्ञ (gya). 

आ से ज्ञा तक का बारहखड़ी चार्ट को कैसे याद करें

आ से ज्ञा तक का बारहखड़ी चार्ट को समझ करके आप हिंदी के किसी भी शब्द को सही से पढ़ और लिख सकते हैं. यह चार्ट वाकई ही बहुत काम का है.

बाराखड़ी चार्ट का उपयोग करने के लिए सबसे पहले आपको मात्रा का ज्ञान होना चाहिए, जो आपके लिए निम्नलिखित हैं।

  • अ का मात्रा नहीं होता है – क = क 
  • आ का मात्रा -> ा + क = का 
  • इ का मात्रा -> ि + क = कि
  • ई का मात्रा -> ी + क = की
  • उ का मात्रा -> ु + क = कु
  • ऊ का मात्रा -> ू + क = कू
  • ऋ का मात्रा -> ृृ    + क = कृ
  • ए का मात्रा -> े + क = के
  • ऐ का मात्रा -> ै + क = कै
  • ओ का मात्रा -> ो + क = को
  • औ का मात्रा -> ौ    + क = कौ
  • अं का मात्रा -> ं + क = कं
  • अः का मात्रा -> ः + क = कः

नोट – ऋ का मात्रा -> ृृ + क = कृ, का प्रयोग बहुत कम होता है. 

बाराखडी हिंदी वर्णमाला: पहले पूरा चार्ट को पढ़ लीजिए

क बारहखड़ी :

    का    कि    की    कु    कू

ka    ka    ki    kee    ku    koo

के    कै    को    कौ    कं    कः

ke    kai    ko    kau    kan    kah


‘ख ‘ की बारहखड़ी :

    खा    खि    खी    खु    खू

kha    kha    khi    khee    khu    khoo

खे    खै    खो    खौ    खं    खः

khe    kai    kho    khau    khan    khah


‘ग ‘ की बारहखड़ी :

    गा    गि    गी    गु    गू

ga    ga    gi    gee    gu    goo

गे    गै    गो    गौ    गं    गः

ge    gai    go    gau    gan    gah


‘घ ‘ की बारहखड़ी :

    घा    घि    घी    घु    घू

gha    gha    ghi    ghee    ghu    ghoo

घे    घै    घो    घौ    घं    घः

ghe    ghai    gho    ghau    ghan    ghah


‘च ‘ की बारहखड़ी :

    चा    चि    ची    चु    चू

cha    cha    chi    chee    chu    choo

चे    चै    चो    चौ    चं    चः

che    chai    cho    chau    chan    chah


‘छ ‘ की बारहखड़ी:

    छा    छि    छी    छु    छू

chha    chha    chhi    ghhee    chhu    chhoo

छे    छै    छो    छौ    छं    छः

vhhe    chhai    chho    chhau    chhan    chhah


‘ज ‘ की बारहखड़ी :

    जा    जि    जी    जु    जू

ja    ja    ji    jee    ju    joo

जे    जै    जो    जौ    जं    जः

je    jai    jo    jau    jan    jah


‘झ ‘ की बारहखड़ी :

    झा    झि    झी    झु    झू

jha    jha    jhi    jhee    jhu    jhoo

झे    झै    झो    झौ    झं    झः

jhe    jhai    jho    jhau    jhan    jhah


‘ट ‘ की बारहखड़ी :

    टा    टि    टी    टु    टू

ta    ta    ti    tee    tu    too

टे    टै    टो    टौ    टं    टः

te    tai    to    tau    tan    tah


‘ठ ‘ की बारहखड़ी :

    ठा    ठि    ठी    ठु    ठू

tha    tha    thi    thee    thu    thoo

ठे    ठै    ठो    ठौ    ठं    ठः

the    thai    tho    thau    than    thah


‘ड ‘ की बारहखड़ी :

    डा    डि    डी    डु    डू

da    da    di    dee    du    doo

डे    डै    डो    डौ    डं    डः

de    dai    do    dau    dan    dah


‘ढ ‘ की बारहखड़ी :

    ढा    ढि    ढी    ढु    ढू

dha    dha    dhi    dhee    dhu    dhoo

ढे    ढै    ढो    ढौ    ढं    ढः

dhe    dhai    dho    dhau    dhan    dhah


‘ण ‘ की बारहखड़ी :

    णा    णि    णी    णु    णू

na    na    ni    nee    nu    noo

णे    णै    णो    णौ    णं    णः

ne    nai    no    nau    nan    nah


‘त ‘ की बारहखड़ी :

    ता    ति    ती    तु    तू

ta    ta    ti    tee    tu    too

ते    तै    तो    तौ    तं    तः

te    tai    to    tau    tan    tah


‘थ ‘ की बारहखड़ी :

    था    थि    थी    थु    थू

tha    tha    thi    thee    thu    thoo

थे    थै    थो    थौ    थं    थः

the    thai    tho    thau    than    thah


‘द ‘ की बारहखड़ी :

    दा    दि    दी    दु    दू

da    da    di    dee    du    doo

दे    दै    दो    दौ    दं    दः

de    dai    do    dau    dan    dah


‘ध ‘ की बारहखड़ी :

    धा    धि    धी    धु    धू

dha    dha    dhi    dhee    dhu    dhoo

धे    धै    धो    धौ    धं    धः

dhe    dhai    dho    dhau    dhan    dhah


‘न ‘ की बारहखड़ी :

    ना    नि    नी    नु    नू

na    na    ni    nee    nu    noo

ने    नै    नो    नौ    नं    नः

ne    nai    no    nau    nan    nah


‘प ‘ की बारहखड़ी :

    पा    पि    पी    पु    पू

pa    pa    pi    pee    po    poo

पे    पै    पो    पौ    पं    पः

pe    pai    po    pau    pan    pah


‘फ ‘ की बारहखड़ी :

    फा    फि    फी    फु    फू

pha    pha    phi    phee    phu    phoo

फे    फै    फो    फौ    फं    फः

phe    phai    pho    phau    phan    phah


‘ब ‘ की बारहखड़ी :

    बा    बि    बी    बु    बू

ba    ba    bi    bee    bu    boo

बे    बै    बो    बौ    बं    बः

be    bai    bo    bau    ban    bah


‘भ ‘ की बारहखड़ी :

    भा    भि    भी    भु    भू

bha    bha    bhi    bhee    bhu    bhoo

भे    भै    भो    भौ    भं    भः

bhe    bhai    bho    bhau    bhan    bhah


‘म ‘ की बारहखड़ी :

    मा    मि    मी    मु    मू

ma    ma    mi    mee    mu    moo

मे    मै    मो    मौ    मं    मः

me    mai    mo    mau    man    mah


‘य ‘ की बारहखड़ी :

    या    यि    यी    यु    यू

ya    ya    yi    yee    yu    yoo

ये    यै    यो    यौ    यं    यः

ye    yai    yo    yau    yan    yah


‘र ‘ की बारहखड़ी :

    रा    रि    री    रु    रू

ra    ra    ri    ree    ru    roo

रे    रै    रो    रौ    रं    रः

re    rai    ro    rau    ran    rah


‘ल ‘ की बारहखड़ी :

    ला    लि    ली    लु    लू

la    la    li    lee    lu    loo

ले    लै    लो    लौ    लं    लः

le    lai    lo    lau    lan    lah


‘व ‘ की बारहखड़ी :

    वा    वि    वी    वु    वू

va    va    vi    vee    vu    voo

वे    वै    वो    वौ    वं    वः

ve    vai    vo    vau    van    vah


‘श ‘ की बारहखड़ी :

    शा    शि    शी    शु    शू

sha    sha    shi    shee    shu    shoo

शे    शै    शो    शौ    शं    शः

she    shai    sho    shau    shan    shah


‘ष ‘ की बारहखड़ी :

    षा    षि    षी    षु    षू

sha    sha    shi    shee    shu    shoo

षे    षै    षो    षौ    षं    षः

she    shai    sho    shau    shan    shan


‘स ‘ की बारहखड़ी :

    सा    सि    सी    सु    सू

sa    sa    si    see    su    soo

से    सै    सो    सौ    सं    सः

se    sai    so    sau    san    sah


‘ह ‘ की बारहखड़ी :

    हा    हि    ही    हु    हू

ha    ha    hi    hee    hu    hoo

हे    है    हो    हौ    हं    हः

he    hai    ho    hau    han    hah


‘क्ष ‘ की बारहखड़ी :

क्ष    क्षा    क्षि    क्षी    क्षु    क्षू

ksha    ksha    kshi    kshee    kshu    kshoo

क्षे    क्षै    क्षो    क्षौ    क्षं    क्षः

kshe    kshai    ksho    kshau    kshan    kshah


‘त्र ‘ की बारहखड़ी :

त्र    त्रा    त्रि    त्री    त्रु    त्रू

tra    tra    tri    tree    tru    troo

त्रे    त्रै    त्रो    त्रौ    त्रं    त्रः

tre    trai    tro    trau    tran    trah


‘ज्ञ ‘ की बारहखड़ी :

ज्ञ    ज्ञा    ज्ञि    ज्ञी    ज्ञु    ज्ञू

gya    gya    gyi    gyee    gyu    gyoo

ज्ञे    ज्ञै    ज्ञो    ज्ञौ    ज्ञं    ज्ञः

gye    gyai    gyo    gyau    gyan    gyah


अब आपको पता चल गया होगा कि इस आर्टिकल में क्या खास है, बाराखडी का उपयोग टेबल में करना बहुत ही मुश्किल होता है। मुझे पूर्ण रूप से आशा है कि आप को यह फॉर्मेट पसंद आया होगा।

बारहखड़ी क्या होता है?

मान्यता है कि बारहखड़ी पहली बार उपयोग श्री काका कालेलकर ने किया था। हिंदी में बारहखड़ी एक विशेष भाषा प्रणाली है जिसमें 12 कॉलम होते हैं और अक्षरों के अनुक्रम बनाने के लिए व्यंजन और स्वरों के संयोजन का उपयोग करते हैं। 

यह भारत के लोगों द्वारा प्राचीन काल से उपयोग किया जाता रहा है, और आधुनिक हिंदी में अभी भी प्रासंगिक है। बरखड़ी हिंदी को समझकर देश के समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास और भाषाई विविधता के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है।

बरहखड़ी हिंदी के लिए बारह स्तंभ तालिका में व्यंजन-स्वर जोड़े के सभी संभावित संयोजन शामिल हैं। 

इस प्रणाली में प्रत्येक अक्षर एक स्वर और एक व्यंजन दोनों का प्रतिनिधित्व करता है, हालांकि ऋ को पारंपरिक बरहखादी नियमों के अनुसार एक स्वर भी माना जाता है। प्रत्येक अक्षर की अपनी अनूठी ध्वनि होती है जो भाषा के उच्चारण और अर्थ का एक अभिन्न अंग बनती है।

Conclusion Points 

दोस्तों हमें पूरी उम्मीद है कि आपको आ से ज्ञा तक का वर्णमाला अब बहुत अच्छे से समझ में आ गया होगा. यही नहीं यह वेबसाइट सिर्फ और सिर्फ हिंदी वर्णमाला के लिए बनाया गया है. 

इस वेबसाइट पर आपको अनेक हिंदी वर्णमाला से संबंधित लेख पढ़ने को मिलेगा, अपने आवश्यकता एवं रुचि के हिसाब से नीचे दिए गए लिंक को चेक कर लीजिए. 

1 thought on “आ से ज्ञा तक बारहखड़ी अपने बच्चों को आसानी से सिखाएं”

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

close